दुनिया

Turkiye-Syria Earthquake Situation Update United Nations On Turkey Earthquake Deaths

[ad_1]

Turkiye-Syria Earthquake Update: पश्चिमी एशियाई देशों तुर्किए (Turkiye) और सीरिया में भूकंप से जान गंवाने वालों की तादाद बढ़ती जा रही है. यहां 6 फरवरी को 7.8 तीव्रता का भूकंप आया था, जिससे कई शहरों में हजारों इमारतें ध्‍वस्‍त हो गई थीं. एक ही दिन में भूकंप के 60 से ज्‍यादा आफ्टरशॉक्‍स आए थे. अब लोगों की मौतों का आंकड़ा 25,401 पर जा पहुंचा है.

ताजा सूचना के मुताबिक, भूकंप के कारण अकेले तुर्किए में ही 21,848 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है. वहीं, सीरिया में 3,553 लोग मारे गए हैं. घायलों की बात की जाए तो दोनों देशों को मिलाकर यह आंकड़ा 78 हजार के पार चला गया है. आपदा राहत एवं बचाव कार्यों में जुटी टीमों ने मलबे से अनगिनत शव निकाले हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने कहा- लाखों लोगों के लिए खाने पीने के इंतजाम करने होंगे

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि भूकंप की वजह से सीरिया में 2 लाख 84 हजार तो तुर्किए में 5 लाख 90 हजार लोग विस्थापित करने पड़े हैं. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम से मिली जानकारी के मुताबिक भूकंप प्रभावितों की संख्‍या 2 करोड़ से ज्‍यादा है. इसलिए, सीरिया और तुर्किए में भूकंप पीड़ितों को खाना खिलाने के लिए 635 करोड़ से ज्यादा रुपयों की अभी जरूरत है.

‘जिंदा रहने के लिए पेशाब पीना पड़ा’

इस भूकंप के केंद्र तुर्किए का गाजियांटेप शहर था. गाजियांटेप अब पूरी तरह बर्बाद हो चुका है. यहां तबाही के 94 घंटे बाद 17 साल के लड़के को एक रेस्क्यू टीम ने जिंदा बाहर निकाला है. अदनान मुहम्मद कोरकुट नाम के लड़के ने बाहर निकलने के बाद बताया कि खुद को जिंदा रखने के लिए उसने अपना पेशाब पीया और आस-पास बिखरे पड़े कुछ फूल खाए. उसने कहा- “भूकंप के समय मैं अपने परिवार के साथ घर में सो रहा था. तभी भूकंप आया और सब कुछ तबाह कर गया. उसके बाद मेरी आंख खुली तो मैंने खुद को फंसा हुआ पाया. मुझे नहीं पता कि मेरे पेरेंट्स का क्या हाल हुआ.”

यह भी पढ़ें: तुर्किए-सीरिया में तबाही का खौफनाक मंजर, उठा सवाल- भूकंप की भविष्यवाणी करना इतना कठिन क्यों है?

#TurkiyeSyria #Earthquake #Situation #Update #United #Nations #Turkey #Earthquake #Deaths

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button