दुनिया

Turkiye Earthquake Bodies Were Pulled From A Devastated Building In Hatay, Old Man Cries For His Family

[ad_1]

Turkiye-Syria Earthquake Update: पश्चिमी एशियाई देशों तुर्किए (Turkiye) और सीरिया में 6 फरवरी को आए भूकंप ने भारी तबाही मचाई है. इन दोनों देशों में अब तक 25,000 से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं. इस विनाशकारी भूकंप के 6 दिन बाद, शनिवार को तुर्किए में लोगों के जीवित बचने की उम्मीद तब फीकी पड़ गई, जब कई दिल दहलाने वाले दृश्य सामने आए.

बुजुर्ग के परिवार के सभी सातों सदस्यों की जान गई

तुर्किए के हैते प्रांत (Turkey’s Hatay) में एक तबाह इमारत से एक-एक करके 17 शव निकाले गए, वहीं मलबे के सामने गमगीन खड़ा बुजुर्ग आंसू बहाता नजर आया. बचावकर्ताओं ने बताया कि उस बुजुर्ग ने अपने परिवार के सभी सात सदस्यों को खो दिया था. उसके चेहरे से आंसू छलक रहे थे, उसने आपदा में मारे गए परिवार के एक सदस्य की व्हाट्सएप प्रोफाइल तस्वीर दिखाई.

इमारत जमींदोज होने के साथ ही दफन हो गए लोग

घटनास्‍थल से सामने आए एक वीडियो में उस गमगीन बुजुर्ग को बचावकर्मी पानी पिलाने की कोशिश करते देखे गए. उसने मलबे की ओर इशारा करते हुए कहा कि उसके परिजन अब नहीं रहे, वे इमारत जमींदोज होने के साथ ही दफन हो गए. बुजुर्ग को देखकर वहां खड़ा हर शख्‍स दुख जताने लगा.

30 हजार से ज्यादा लोगों को बचाया गया

एक रिपोर्ट में शनिवार की रात को बताया गया कि 7.8 तीव्रता के भूकंप से 25 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. अब 95 से ज्यादा देश तुर्किए में मदद भेज रहे हैं. भारत के “ऑपरेशन दोस्त” सहित प्रभावित क्षेत्रों में विभिन्न देशों के हजारों बचावकर्मियों के राहत प्रयास जारी हैं. इसके चलते इसी देश में अब तक 30 हजार से ज्यादा लोगों को बचा लिया गया है.

तुर्की के कह्रामनमारस में, एक शख्‍स ठंड में ईंटों के ढेर पर अकेला बैठा नजर आया. वह अपनी उस 15 वर्षीय बेटी का हाथ पकड़ कर बैठा था, जो इमारत के गिरे हुए कंक्रीट के वजन के नीचे कुचल गई थी. भूकंप से उसकी बेटी की दर्दनाक मौत हुई थी.

यह भी पढ़ें: तुर्किए और सीरिया का भूकंप 100 सालों की सबसे बुरी घटना- संयुक्त राष्ट्र, लाखों लोगों के सामने खाने-पीने का संकट

#Turkiye #Earthquake #Bodies #Pulled #Devastated #Building #Hatay #Man #Cries #Family

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button