बिज़नेस

Foreign Currency Reserves Increases By 6 Billion Dollar To 622.46 Billion Dollar Says RBI Data

[ad_1]

India Forex Reserves: विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Currency Reserves) में बड़ा उछाल देखने को मिला है. बैंकिंग सेक्टर के रेग्यूलेटर भारतीय रिजर्व बैंक ने डेटा जारी कर बताया कि 2 फरवरी 2024 को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 5.73 बिलियन डॉलर के उछाल के साथ 622.46 बिलियन डॉलर पर जा पहुंचा है.  

आरबीआई ने (Reserve Bank Of India) ने शुक्रवार 9 फरवरी, 2024 को विदेशी मुद्रा भंडार का डेटा जारी किया है. इस डेटा के मुताबिक 2 फरवरी को खत्म हफ्ते तक विदेशी मुद्रा भंडार 5.736 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी के साथ 622.469 बिलियन डॉलर पर आ गया है जो पिछले हफ्ते में 616.733 बिलियन डॉलर रहा था. आरबीआई के डेटा के मुताबिक इस दौरान विदेशी करेंसी एसेट्स में भी जोरदार उछाल देखने को मिला है. विदेशी करेंसी एसेट्स 5.186 अरब डॉलर बढ़कर 551.133 बिलियन डॉलर रहा है. अक्टूबर 2021 में विदेशी मुद्रा भंडार ने 645 बिलियन डॉलर का रिकॉर्ड हाई बनाया था. 

आरबीआई के गोल्ड रिजर्व में इस अवधि के दौर जोरदार बढ़ोतरी देखने को मिली है. गोल्ड रिजर्व 608 मिलियन डॉलर की बढ़ोतरी के साथ 48.08 बिलियन डॉलर पर आ गया है. हालांकि एसडीआर में गिरावट आई है और ये घटकर 18.18 बिलियन डॉलर पर आ गया है. जबकि  इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) में जमा रिजर्व में कोई बदलाव नहीं हुआ है और ये 4.86 बिलियन डॉलर के लेवल पर बरकरार है. 

आरबीआई के दखल देने के बाद विदेशी करेंसी एसेट्स में बदलाव देखने को मिलता है. करेंसी मार्केट्स में हस्तक्षेप के चलते विदेशी करेंसी एसेट्स में बढ़ोतरी या फिर गिरावट आती है जिसका असर आरबीआई के विदेशी मुद्रा भंडार पर पड़ता है. इससे पहले 8 फरवरी 2024 को मॉनिटरी पॉलिसी का एलान करते हुए आरबीआई गवर्नर ने कहा कि एक्सटर्नल फाइनेंसिंग जरुरतों को पूरा करने में हम पूरी तरह सक्षम है. 

9 फरवरी 2024 को करेंसी मार्केट (Currency Market) में डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी देखने को मिली है. एक डॉलर के मुकाबले रुपया 4 पैसे की कमजोरी के साथ 83.03 के लेवल पर क्लोज हुआ है. 

ये भी पढ़ें 

EPFO ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक से जुड़े बैंक अकाउंट में क्लेम सेटल करने पर लगाई रोक, 23 फरवरी से फैसला लागू

#Foreign #Currency #Reserves #Increases #Billion #Dollar #Billion #Dollar #RBI #Data

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button