बिज़नेस

Foreign Currency Reserves: लगातार चौथे हफ्ते विदेशी मुद्रा भंडार में बड़ी उछाल, 6 अरब डॉलर की बढ़ोतरी के साथ 604 बिलियन डॉलर हुआ फॉरेक्स रिजर्व


India Forex Reserves: विदेशी मुद्रा भंडार चार महीने के हाई पर जा पहुंचा है. 6 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी के साथ विदेशी मुद्रा भंडार 600 बिलियन डॉलर के पार जा पहुंचा है. आरबीआई के डेटा के मुताबिक एक दिसंबर, 2023 को खत्म हुए सप्ताह में फॉरेक्स रिजर्व 6.10 बिलियन डॉलर के उछाल के साथ 604.04 बिलियन डॉलर पर आ गया है. ये लगातार तीसरा हफ्ता है फॉरेक्स रिजर्व में बढ़ोतरी देखने को मिली है. 

बैंकिंग सेक्टर के रेग्यूलेटर आरबीआई ने शुक्रवार को विदेशी मुद्रा भंडार का डेटा जारी किया है. डेटा के अनुसार 1 दिसंबर तक विदेशी मुद्रा भंडार 604.04 बिलियन डॉलर पर आ गया है जो इसके पहले हफ्ते में 597.395 बिलियन डॉलर रहा था. विदेशी करेंसी एसेट्स में भी बड़ी उछाल देखने को मिली है. विदेशी करेंसी एसेट्स 5.07 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी के साथ 533.61 बिलियन डॉलर रही है. 

आरबीआई के गोल्ड रिजर्व में इजाफा हुई है. आरबीआई का गोल्ड रिजर्व 991 मिलियन डॉलर के उछाल के साथ 47.32  बिलियन डॉलर रहा है. एसडीआर में 32 मिलियन डॉलर का उछाल रहा है और ये 18.25 बिलियन डॉलर रहा है. जबकि इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड में जमा रिजर्व 5 अरब डॉलर के उछाल के साथ 4.85 बिलियन डॉलर रहा है.  

इससे पहले मॉनिटरी पॉलिसी की घोषणा करते हुए आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि भारत का विदेशी मुद्रा भंडार बाहरी झटकों से बचाने में बड़ी भूमिका अदा कर रहा है. उन्होंने कहा कि हम पूरा भरोसा है कि हम अपने बाहर फाइनेंसिंग जरुरतों को पूरा करने में कामयाब होंगे. इससे पहले 8 दिसंबर को एक डॉलर के मुकाबले रुपया करेंसी मार्केट 1 पैसे की कमजोरी के साथ 83.38 रुपये के लेवल पर क्लोज हुआ है. 

कच्चे तेल की कीमतों में बड़ी गिरावट का भी विदेशी मुद्रा भंडार की बचत होगी. सरकारी तेल कंपनियों को कच्चा तेल खरीदने के लिए कम डॉलर की दरकार होगी जिससे विदेशी मुद्रा की बचत होगी. कच्चा तेल 75 डॉलर प्रति बैरल के करीब गिर चुका है. 

ये भी पढ़ें-

RBI Monetary Policy: नहीं मिली महंगे लोन से राहत, Repo Rate 6.5 फीसदी पर बरकरार; Nifty 21000 के पार

#Foreign #Currency #Reserves #लगतर #चथ #हफत #वदश #मदर #भडर #म #बड #उछल #अरब #डलर #क #बढतर #क #सथ #बलयन #डलर #हआ #फरकस #रजरव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button