भारत

Facebook Groups Devoted To Bajrang Dal Offered Guns For Sale Claims Media Report


Guns Sale On Facebook: फेसबुक पर हथियारों की अवैध रूप से होने वाली खरीद-फरोख्त को लेकर एक हैरान करने वाला खुलासा हुआ है. द वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ) की रिपोर्ट है कि कुछ फेसबुक यूजर्स ने बजरंग दल से जुड़े ग्रुप्स के सदस्यों को बिक्री के लिए ‘हथियार, राइफल, बन्दूक और गोलियों’ की पेशकश की है. ऐसे फेसबुक पोस्ट को हिंदुत्व वॉच के संस्थापक रकीब हमीद नाइक ने स्पॉट किया है. हिंदुत्व वॉच संस्था भारत में धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ हमलों की निगरानी करती है. 

WSJ के अनुसार, रकीब हमीद नाइक ने जनवरी में ऐसे पोस्ट को रिपोर्ट करना शुरू किया था. उनका मानना है कि ये पोस्ट कंपनी की सार्वजनिक रूप से घोषित पॉलिसी का उल्लंघन करते हैं. मीडिया आउटलेट का दावा है कि उसने उन दस्तावेजों की समीक्षा की है जो वेरिफाई करते हैं कि फेसबुक ने उन्हें (आपत्तिजनक पोस्ट) यह कहते हुए हटाने से इनकार कर दिया कि ऐसे पोस्ट ने कंपनी के नियमों का उल्लंघन नहीं किया.

WSJ का कहना है कि पोस्ट के बारे में पूछताछ के बाद, फेसबुक ने 7 फरवरी को इन पोस्ट को हटा दिया. मेटा प्रवक्ता ने कहा, ‘हम लोगों को हमारे ऐप पर बंदूकें खरीदने या बेचने से रोकते हैं और जैसे ही हम इसे देखते हैं तो उल्लंघन करने वाले कंटेंट को हटा देते हैं.’ मीडिया आउटलेट ने दावा किया कि प्रवक्ता ने इस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि पोस्ट को पहली बार रिपोर्ट किए जाने पर क्यों नहीं हटाया गया.

बजरंग दल से लिंक जुड़े होने का दावा

जिन पोस्ट को हटाया गया, उनका सीधा लिंक बजरंग से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है. बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद (VHP) की एक युवा शाखा है. बजरंग दल को वीएचपी के साथ 2018 में यूएस सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी ने आतंकवादी धार्मिक संगठन माना था. डब्ल्यूएसजे की रिपोर्ट में कहा गया है कि बजरंग दल के सदस्य पिछले वर्षों में धार्मिक रूप से प्रेरित हत्याओं के लिए भारत में जेल भी गए हैं.

बजरंग दल और वीएचपी के एक प्रवक्ता ने WSJ को बताया कि ‘अमेरिकी सरकार का बजरंग दल को लेकर आकलन गलत है, इसका कोई भी सदस्य ना तो हथियार खरीदेगा और ना ही बेचेगा… हम हिंसा में विश्वास नहीं रखते हैं.’

आपत्तिजनक पोस्ट में क्या था?

हिंदुत्व वॉच के संस्थापक रकीब हमीद नाइक ने बजरंग दल को समर्पित पांच ग्रुप्स में बिक्री के लिए बंदूकों की पेशकश करने वाली पोस्टों को ट्रैक किया था. डब्ल्यूएसजे ने इनकी समीक्षा की. कुछ विक्रेताओं ने कथित तौर पर वादा किया था कि वे 24 घंटे के भीतर हथियार डिलीवर कर सकते हैं. रिपोर्ट के अनुसार, एक पोस्ट में, ‘एक यूजर ने पांच पिस्तौल की तस्वीरें शेयर की थीं.’ एक तस्वीर में एक क्लिप से ब्राउन रंग की गोलियां निकलती भी दिखाई दीं.

डब्ल्यूएसजे के अनुसार, एक पोस्ट में हिंदी में कहा गया है कि जिस भी ‘भाई’ को ‘देसी कट्टा पिस्टल’ की आवश्यकता है वो दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क कर सकता है. जब नाइक ने विक्रेता से व्हाट्सएप के माध्यम से संपर्क किया तो व्यक्ति ने कहा कि पिस्तौल का दाम 11,000 रुपये तक है.

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election: कर्नाटक में चलेगा कांग्रेस का जादू! 2024 में 60 फीसदी सीटों पर UPA करेगी फतेह, सर्वे में खुलासा

#Facebook #Groups #Devoted #Bajrang #Dal #Offered #Guns #Sale #Claims #Media #Report

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button