दुनिया

Chinese Scholar Said Pakistan Should Learn From India | China On India: चीन ने दी पाकिस्तान को भारत से सीखने की नसीहत, कहा


Chinese Scholar On India: चीन हमेशा से दावा करता है कि वह दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करता है, लेकिन अपने ‘आयरन ब्रदर’ कहे जाने वाले पाकिस्तान को समय समय पर नसीहत जरूर देता रहता है. अब चीन के एक विशेषज्ञ ने पाकिस्तान को भारत से सीखने की सलाह दी है. उन्होंने कहा है कि ने बीते कुछ वर्षों में जिस तरह का विकास किया है, उससे पाकिस्तान को सीखना चाहिए .

दरअसल, पाकिस्तान को नसीहत देने वाले चीन विशेषज्ञ का नाम हु शिशेंग है, जो बीजिंग में चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ कंटेम्परेरी इंटरनेशनल रिलेशंस (सीआईसीआईआर) के इंस्टीट्यूट ऑफ साउथ एशियन स्टडीज के निदेशक हैं. उन्होंने पकिस्तान के एक कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बोलते हुए कहा है कि पाकिस्तान को भारत की तरफ देखना चाहिए और उससे सीखना चाहिए. भारत के विकास पर ध्यान देना चाहिए. 

भारत की तरह विकास क्यों नहीं कर पाया पाकिस्तान 

उन्होंने आगे कहा कि भारत का यह तीव्र विकास मुख्य रूप से गुजरात स्टाइल पर आधारित है. पाकिस्तान इस तरह का विकास क्यों नहीं कर पाया. सोचना चाहिए कि इस तरह के मॉडल के तहत विकास क्यों नहीं हो पाया. इस दौरान चीनी विशेषज्ञ ने यह भी सुझाव दिया कि पाकिस्तान ‘अस्थायी रूप से… नई बुनियादी ढांचा परियोजनाएं शुरू न करे’ और इसके बजाय ‘मौजूदा परियोजनाओं को पुनर्जीवित करने पर ध्यान केंद्रित करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे बेकार न रहें’. 

आत्मनिर्भरता बढ़ाने को कहा 

 उन्होंने पाकिस्तान से अपने व्यापार और वित्तीय घाटे को दूर करने के लिए “आत्मनिर्भरता बढ़ाने” का आह्वान किया.  इस दौरान उन्होंने पाकिस्तान से अपने विकास परियोजना में भागीदारी के लिए नए क्षेत्रीय साझेदारों को लाने का प्रयास करने को कहा. 

भारत से संबंध बनाने को कहा 

गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में, चीन के ग्लोबल टाइम्स में एक साक्षात्कार में, एक पाकिस्तानी पत्रकार ने सुझाव दिया कि भारत बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) में शामिल होने पर विचार कर सकता है, अगर उसे “अत्यधिक नुकसान न उठाना पड़े और अपनी उच्च जीडीपी वृद्धि को बनाए रखने में कठिनाई न हो. लेकिन चीनी एक्सपर्ट ने पाकिस्तानियों को भारत से संबंधित कई क्षेत्रीय परियोजनाओं, जैसे टीएपीआई (तुर्कमेनिस्तान-अफगानिस्तान-पाकिस्तान-भारत) पाइपलाइन और ईरान और रूस के माध्यम से आईएनएसटीसी (अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारा) जैसी कई क्षेत्रीय परियोजनाओं का हवाला देते हुए पहल करने के लिए कहा.

ये भी पढ़ें: Malaysia: शख्स को हुई 702 साल की जेल और 234 बेंत मारने की सजा, बेटियों से रेप का है मामला

#Chinese #Scholar #Pakistan #Learn #India #China #India #चन #न #द #पकसतन #क #भरत #स #सखन #क #नसहत #कह

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button