बिज़नेस

Byju Laysoff 1000 Employees As Sales Funding Winter Worsens


Byju’s Layoff 2023 : बड़ी-बड़ी कंपनियों में कर्मचारियों की छंटनी रुकने का नाम नहीं ले रही है. इस बार ऑनलाइन टीचिंग ऐप कंपनी बायजू (Byju’s Layoff) से बड़ी खबर सामने आ रही है. एक बार फिर बायजू अपने कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है. बायजू मार्केट में एक तरह की ऑनलाइन टीचिंग ऐप कंपनी है. इसके जरिए बच्चे घर पर रह कर ऑनलाइन पढ़ाई करते हैं. ये कंपनी भारत की सबसे मूल्यवान स्टार्टअप कंपनी के रूप में ख्याति पा चुकी है. जानिए क्या कारण है, जिसके चलते ये कंपनी अपने कर्मचारियों को नौकरी से बाहर कर रही है. 

1,000 कर्मचारियों की हुई छंटनी 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, Byju’s ने जानकारी दी है कि, वह अपने 1,000 कर्मचारियों की छंटनी कर रही है. ये छंटनी कंपनी में इंजीनियरिंग, सेल्स, लॉजिस्टिक्स, मार्केटिंग और कम्युनिकेशन टीम में हो रही है. इंजीनियरिंग टीम से लगभग 300 कर्मचारियों को बर्खास्त किया जा रहा है. इंजीनियरिंग टीम में पिछले साल 2022 से अक्टूबर महीने के बाद से 50 प्रतिशत तक की गिरावट हुई है. 

ई-मेल लीक होने के चलते नहीं भेजा 

बताया जा रहा है कि किसी भी कर्मचारी को मेल पर छंटनी के बारे में नहीं बताया गया है. बायजू ने अपने कर्मचारियों को सामान्य और व्हाट्सएप कॉल पर Google मीट पर एक कॉल में शामिल होने के लिए कहा और वहां छंटनी के बारे में उन्हें जानकारी दी जा रही है. 

आर्थिक अस्थिरता के चलते हुआ फैसला 

कंपनी के मालिक बायजू रवींद्रन (Byju Ravindran) ने 31 अक्टूबर 2022 को 2500 कर्मचारियों को एक भावनात्मक मेल में भेजा था, जिसमें उन्होंने कहा था कि कंपनी में आर्थिक अस्थिरता के कारण कर्मचारियों की छंटनी करने की योजना बनाई है. यह कहते हुए कि प्रॉफिट की राह पर चलने के लिए एक बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है. बायजू रवींद्रन ने कहा कि कर्मचारियों को बर्खास्तगी के लिए कहने से उनका दिल भी टूट जाता है. उन्हें उन लोगों के लिए वास्तव में खेद है, जिन्हें कंपनी छोड़नी होगी.

paisa reels

 

ये भी पढ़ें- Indian Railways: ट्रेन के डिब्बों में नए डिजाइन के टॉयलेट का निरीक्षण करने पहुंचे रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव, वीडियो हो रहा वायरल

#Byju #Laysoff #Employees #Sales #Funding #Winter #Worsens

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button