दुनिया

A Man Sentenced To 702 Years In Prison For Raping Daughters In Malaysia


Malaysia: मलेशिया में एक बाप ने रिश्तों को शर्मसार करते हुए अपनी ही नाबालिग बेटियों के साथ रेप की घटना को अंजाम दिया है, जिसके लिए हैवान पिता को 702 साल की जेल और 234 बेंत मारने की सजा सुनाई गई है. साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, 53 वर्षीय पिता ने 2018 से 2023 तक दो लड़कियों से 30 बार बलात्कार करने का अपराध स्वीकार किया है. 

रिपोर्ट के अनुसार, हैवान पिता की दरिंदगी का खुलासा तब हुआ, जब बड़ी बेटी गर्भवती हो गई. यह घटना मलेशिया के जोहोर राज्य के मुआर इलाके की है. जहां यह व्यक्ति वर्षों से अपनी बेटियों को हवस का शिकार बना रहा था. कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि सजाएं एक साथ चलनी चाहिए.  

वर्षों से बेटियों संग रेप कर रहा था पिता 

रिपोर्ट के अनुसार, कोर्ट ने जिस हैवान शख्स को सजा सुनाई है, वह पेशे से एक सफाई कर्मचारी है. उसकी दो अलग-अलग पत्नियों से बेटियां हैं, जिनके साथ वह वर्षों से गलत काम कर रहा था. रिपोर्ट के अनुसार, दोनों पीड़िता अलग-अलग इलाके में रहती थीं. रिपोर्ट के अनुसार, आरोपी ने आखिरी बार अपनी बेटी संग 9 जुलाई को बलात्कार किया था. 

कोर्ट में पिता ने स्वीकार दिया अपना दोष 

रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट में आरोपी ने अपने किये पर पछतावा जाहिर करते हुए, सजा को कम करने की अपील की थी, जिसे जज ने तुरंत खारिज कर दिया. इसके साथ ही जज ने कहा कि अपराध बेहद गंभीर हैं. ऐसे में यह सजा आपको अपने कार्यों पर विचार करने और अपनी गंभीर गलतियों से सीखने के लिए प्रेरित करेगी. कोर्ट में दोषी  पिता ने अपना दोष स्वीकार करते हुए कहा कि ‘मैं अपने कृत्यों की सज़ा स्वीकार करता हूं.’

बता दें कि मलेशियाई कानूनी प्रणाली में बाल यौन अपराधियों के लिए इस प्रकार की लंबी जेल की सज़ा कोई नई बात नहीं है. इससे पहले हाल ही में जोहोर में एक व्यक्ति को अपनी 15 वर्षीय बेटी के यौन उत्पीड़न और बलात्कार के लिए 218 साल जेल और 75 बेंत मारने की सजा सुनाई गई थी. 

ये भी पढ़ें: Pakistani Saint Arrested:10 वर्षीय नौकरानी की हत्या के आरोप में पाकिस्तानी पीर गिरफ्तार, बच्ची का हाल देख सोशल मीडिया पर भड़के यूजर्स

#Man #Sentenced #Years #Prison #Raping #Daughters #Malaysia

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button